क्रिप्टो करेंसी क्या है? जानिए 2 मिनट में सबकुछ

Share it with them?

क्रिप्टो करेंसी क्या है ये कैसे काम करती है? आज कल हर कोई इसके बारे में जानना चाहता है । 

और ऐसा हो भी क्यों न आखिर कार हम सभी ने लोगो को Cryptocurrrency से कई बार पैसे कमाते देखा है। Crypto News पर तो मनो हर नए दिन कोई न कोई तो क्रिप्टो करेंसी की दुनिया में छाया ही रहता ह। 

यदि आप खुद क्रिप्टो करेंसी से जुडी तमाम जानकारियां बटोरना चाहते हो तो पढ़ते रहिय। 

इस पोस्ट में हमने सर से लेकर पाव तक क्रिप्टो करेंसी के बारे में सब कुछ आपके सामने रख दिया है।

डिजिटल करेंसी क्या है? ये कैसे काम करती है? क्या ये सेफ है भी या नहीं? क्रिप्टो माइनिंग क्या होती है?

जाने सब कुछ इस पोस्ट मे। तो देरी न करते हुए करते हुए, चलिए आगे पढ़ते है और Gyan बटोरते हैं

करेंसी क्या है?

करेंसी यानि मुद्रा जो वस्तुओं का सही मूल्य निर्धारित करने में एहम भूमिका निभाती है और वस्तुओं के लेन देन में पारदर्शिता लती है।

एक समय था जब इस दुनिया में करेंसी नामक कोई चीज होती ही नहीं थी। दुनिया वस्तु विनिमय प्रणाली (Barter System) पर निर्भर रहती थी।

वस्तु विनिमय प्रणाली एक ऐसी प्रणाली जिसमे एक व्यक्ति दुसरे व्यक्ति से किसी वस्तु को वस्तु के जरिये खरीदता है नाकि मुद्रा (Currency) से। 

वस्तु विनिमय प्रणाली में चीजों का लेन-देन होता था जिसमे वस्तुओं का सही मूल्य लगा पाना बहुत मुश्किल था।

धीरे-धीरे लोगो को वास्तु विनिमय प्रणाली में खामियों का पता चला।

जिसके बाद लोगो ने –

  1. कोड़ी (Cowrie Shells) का इस्तेमाल करना शुरू किया
  2. फिर सोने चांदी के सिक्के (Gold silver coins)
  3. कागज़ी मुद्रा (Paper Currency) इस्तेमाल की जाने लगी
  4. उसके बाद डेबिट कार्ड (Debit Card), क्रेडिट कार्ड (Credit Card) और नेट बैंकिंग (Net Banking)
  5. और अब अंत में क्रिप्टो करेंसी (Crypto Currency) यानि डिजिटल करेंसी

पिछली सभी मुद्रा या लेन देन के माध्यम को आप देख सकते थे महसूस कर सकते थे लेकिन क्रिप्टो करेंसी में ऐसा नहीं है।

जिसके कारन डिजिटल वर्ल्ड की ये डिजिटल करेंसी अब सबसे अनोखी चीज बानी हुई है और ऐसा क्यों है इस पोस्ट में हम इसे और गहराई से समझते हैं

क्रिप्टो करेंसी क्या है?

क्रिप्टो करेंसी, जिसे डिजिटल मुद्रा के रूप में भी जाना जाता है, कागज के नोटों या सिक्कों के विपरीत हैं।

कागज के नोट और सिक्के मुद्रा का एक मानक रूप है जिसे भौतिक रूप से छुआ और बदला जा सकता है।

लेकिन क्रिप्टोकुरेंसी में भौतिक शरीर नहीं होता है जिसे छुआ और महसूस किया जा सके।

उदारहण के लिए – 1 डॉलर या 1 रुपये का सिक्का धातुओं से बना होता है, जिस पर संबंधित राष्ट्र की मुहर खुदी हुई होती है। कागज के नोट अनूठे रंगों और डिजाइनों के साथ छपे विशेष कागजों से बने होते हैं। लेकिन क्रिप्टोकरेंसी पूरी तरह से अलग हैं। क्रिप्टो करेंसी पूरी तरह से डिजिटल मुद्रा है।

हालाँकि, इस डिजिटल मुद्रा को डिजिटल स्क्रीन पर अंकों और आंकड़ों में देखा जा सकता है, जिसका मूल्य इसकी अपनी बाजार की मांग और आपूर्ति से आता है

क्योंकि क्रिप्टो करेंसी मात्रा में सीमित हैं।

चूंकि क्रिप्टोकरेंसी को निजी तौर पर रखा जाता है और कोई भी सरकारी संगठन उन्हें जारी नहीं करता है, किसी भी क्रिप्टोकरेंसी का मूल्य किसी भी समय उच्च और निम्न हो सकता है।

साधारण भाषा में कहें तो इन मुद्राओं को विकेंद्रीकृत मुद्रा भी कहा जाता है, यानि DECENTRALIZED करेंसी

क्रिप्टो करेंसी काम कैसे करती है?

अब आप सोच रहे होंगे कि क्रिप्टो करेंसी कैसे काम करती है?

क्योंकि यह सवाल आमतौर पर उन लोगों द्वारा उठाया जाता है जो इस डिजिटल संपत्ति से परिचित नहीं हैं।

तो चलिए इसे आसान भाषा में समझते हैं।

आज क्रिप्टोक्यूरेंसी केवल ब्लॉकचेन नेटवर्क के कारण मौजूद है।

ब्लॉकचैन नेटवर्क में कुछ प्रोटोकॉल शामिल होते हैं जिसका पालन प्रत्येक क्रिप्टो करेंसी को अपना मूल्य प्राप्त करने के लिए करना आवश्यकता होती है।

सरल शब्दों में कहे तो क्रिप्टोक्यूरेंसी कंप्यूटर के एक नेटवर्क पर चलती है जिसमें प्रत्येक क्रिप्टो सिक्के का “डिजिटल रिकॉर्ड” होता है।

ये डिजिटल रिकॉर्ड उस व्यक्ति के विवरण को संदर्भित करता है जो मुद्रा का मालिक है।

भले ही मुद्रा को स्थानांतरित कर दिया गया हो और उसका कोई दूसरा व्यक्ति अब मालिक हो डिजिटल रिकॉर्ड हमेशा ब्लॉकचेन नेटवर्क पर संग्रहीत रहता है।

डिजिटल मुद्रा का साझाकरण “क्रिप्टो एक्सचेंज” के माध्यम से किया जाता है, और प्रत्येक मुद्रा को डिजिटल “वॉलेट” में अलग से संग्रहीत किया जाता है।

आइए ब्लॉकचेन को थोड़ा और बेहतर समझते हैं।

#1. ब्लॉकचैन क्या है? ये कैसे काम करता है?

ब्लॉकचेन एक वितरित खाता बही की तरह है।

जैसे एक बहीखाता (ledger) किसी विशेष लेन-देन का रिकॉर्ड रखता है, वैसे ही ब्लॉकचेन क्रिप्टो करेंसी के प्रत्येक स्वामित्व का रिकॉर्ड रखता है।

एक प्राइवेट कंपनी का तो अपना निजी खाता बही होता है पर क्योंकि ब्लॉकचैन में ये सार्वजनिक होता है इसलिए इसे “वितरित खाता बही” कहा जाता है।  

यानि इस खाता बही को हर कोई देख सकता है।

उदाहरण के लिएयह यह असल ज़िन्दगी में संपत्ति, खरीदने और बेचने जैसा होता है।

जिस तरह सरकार हर संपत्ति और उसके स्वामित्व का रिकॉर्ड एक श्रृंखला में रखती है, वैसे ही ब्लॉकचेन नेटवर्क प्रत्येक क्रिप्टो कॉइन की जानकारी को व्यवस्थित करता है।

प्रत्येक खरीदार और विक्रेता पक्ष की जानकारी ब्लॉकों में पंजीकृत होती है और एक श्रृंखला के माध्यम से जुड़ी होती है जो एक डिजिटल इको-सिस्टम का निर्माण करती है।

कोई भी व्यक्ति ब्लॉकचेन पर प्रत्येक ब्लॉक की स्थिति देख सकता है, क्योंकि प्रत्येक क्रिप्टो कॉइन से जुड़ा पिछला इतिहास ब्लॉकचैन नेटवर्क पर सुरक्षित है।

उदाहरण के लिएअगर राहुल क्रिप्टो खरीदना चाहता है, तो वे क्रिप्टो एक्सचेंज से संपर्क कर सकता हैं और खरीद सकता हैं, और यदि वो चाहें, तो वो एक्सचेंज की मदद से इसे महेश को  स्थानांतरित कर सकते हैं।

इसी तरह, सिक्के का मालिकाना हक़ महेश को हस्तांतरित किया जाता है लेकिन दोनों पक्षों की सहमति से।

यदि महेश क्रिप्टो को सुरेश को देना चाहता है, तो सिक्के का स्वामित्व एक निश्चित मूल्य पर सुरेश को स्थानांतरित कर दिया जाएगा। 

जिसके लिए सुरेश महेश का भुगतान करेगा जैसे महेश ने राहुल से क्रिप्टो खरीदते वक्त किया था।

प्रत्येक स्थानांतरण को वेरीफाई क्रिप्टो माइनिंग के माध्यम से किया जाता है।

#2. क्रिप्टो माइनिंग क्या है?

बिना क्रिप्टो माइनिंग के ब्लॉकचेन नेटवर्क पर क्रिप्टोकरेंसी के मूल्य को निर्धारित करना कठिन है।

क्रिप्टो माइनिंग एक ऐसी प्रक्रिया है जिसका उपयोग लगभग हर क्रिप्टोकरेंसी अपने प्रत्येक क्रिप्टो कॉइन के लेनदेन को वेरीफाई करने के लिए करते हैं।

क्रिप्टो माइनिंग न केवल लेन-देन को स्पष्ट करता है, बल्कि यह एक नया सिक्का भी प्रचलन में लाता है।

क्रिप्टो माइनिंग का ये महत्वपूर्ण कार्य क्रिप्टो माइनर्स द्वारा किया जाता है। 

ये क्रिप्टो माइनर्स कोई और नहीं बल्कि आप और मेरे जैसे लोग हैं जो लेन-देन की पुष्टि करने वाले ब्लॉकचेन के जटिल एल्गोरिथम को हल करते हैं। 

इसके लिए वे एक विशेष कंप्यूटर या “माइनिंग कंप्यूटर” का उपयोग करते हैं।

प्रक्रिया के दौरान, प्रत्येक माइनर माइनिंग कंप्यूटर के द्वारा एक क्रिप्टोग्राफ़िक लिंक उत्पन्न करने का प्रयास करता है। 

कंप्यूटर यह आकलन करता है कि क्या क्रिप्टो खरीदार के पास मूल क्रिप्टो के भुगतान के लिए पर्याप्त धन उपलब्ध है।

कंप्यूटर यह भी पुष्टि करता है कि क्या क्रिप्टो बेचने वाले ने क्रिप्टो के हस्तांतरण के लिए इजाजत दी है भी के नहीं। 

पुष्टि हो जाने के बाद एक क्रिप्टोग्राफिक लिंक कंप्यूटर द्वारा उत्पन्न किया जाता है। 

जिसके जरियते ब्लॉकचेन में एक नया ब्लॉक जोड़ा जाता है और पूरे क्रिप्टो नेटवर्क में प्रसारित/अपडेट किया जाता है।

करेंसी और क्रिप्टोकरेंसी के बीच अंतर

मुद्रा या क्रिप्टो मुद्रा में क्या अंतर है? ये सवाल काफी चर्चा में है क्यूंकि कई बार जानने के बाद की दोनों करेंसी यानि मुद्रा में क्या क्या अंतर है लोग फिर भी थोड़े जिज्ञासा से ये थोड़ा और विस्तार में जानना चाहते है। तो चलिए बताते है –

अंतरकरेंसी (मुद्रा)क्रिप्टोकरेंसी
मतलबएक सरकार द्वारा जारी मुद्रा है जिसका भौतिक रूप से उपयोग किया जा सकता है।क्रिप्टोकुरेंसी पूरी तरह से डिजिटल मुद्रा है। यह विकेंद्रीकृत है क्योंकि यह सरकार द्वारा नहीं चलाई जाती।
उदाहरणडॉलर, यूरो, रुपयाबिटकॉइन, लाइटकॉइन और भी बहुत कुछ
जारीकर्तासेंट्रल बैंकस्वतंत्र रूप से संचालित होता है
बिचोलिएलेन देन करने के लिए आवश्यकलेन देन करने के लिए आवश्यक
सप्लाईअनलिमिटेड सप्लाईलिमिटेड सप्लाई
वैधतासभी देशों में वैधकुछ देशों में अवैध
पहचानकागज के नोट और धातु के सिक्केडिजिटल नंबर, यूनिट्स
लेन देनभौतिक रूप से आदान-प्रदान किया जा सकता हैकेवल इलेक्ट्रॉनिक रूप से आदान-प्रदान किया जा सकता है
कहां रखेबैंक खाते या घर पर निजी लॉकर में संग्रहीत किया जा सकता हैकेवल डिजिटल वॉलेट में संग्रहीत
स्पर्शयोग्यतामुद्रा को छुआ जा सकता हैडिजिटल मुद्रा को नहीं छुआ जा सकता है
नज़र रखनाहर एक मुद्रा पर नजर रखना कठिन हैहर एक डिजिटल कॉइन पर नजर राखी जा सकती है

आगे हम बात करेंगे क्रिप्टो करेंसी और डिजिटल एसेट्स के बीच अंतर की क्यूंकि ये भी डिजिटल दुनिया का एक उभरता नमूना है जिससे लोग पैसे भी कमा रहे हैं।

क्रिप्टो करेंसी और डिजिटल एसेट के बीच अंतर

क्रिप्टो करेंसी क्या है और डिजिटल एसेट क्या है? क्या दोनों एक ही है या कुछ और? शुरवात में कई लोगो को इस बारे में काफी संदेह होता है। हालाँकि कुछ साल पहले क्रिप्टो करेंसी क्या है? यदि पुछा जाता तहत तो साधारण शब्दों में लोग कह देते थे की क्रिप्टो करेंसी एक डिजिटल एसेट है। लेकिन अब ऐसा नहीं रहा, क्यों? आइये जानते है क्रिप्टो करेंसी और डिजिटल करेंसी के बीच इस अंतर से –

अंतरक्रिप्टोकरेंसीडिजिटल एसेट
मतलबक्रिप्टो करेंसी पूर्ण रूप से एक वर्चुअल और डिजिटल करेंसी है जिससे आप बाजारी डिजिटली लेन देन कर सकते हैं।डिजिटल एसेट वर्चुअल एसेट होते हैं जिनसे आप बाजारी लेन देन नहीं कर सकते हैं। हालाँकि आप इन्हे खरीद और बेच ज़रूर सकते हैं। इन्हे NFT भी कहा जाता है
उदाहरणBitcoin, Litecoin, Shiba InuOrica, NBA Top Shot, Cryptopunks. Hashmasks.
जारीकर्तास्वतंत्र रूप से संचालित होता हैस्वतंत्र रूप से संचालित होता है
बिचोलिएलेन देन करने के लिए आवश्यकलेन देन करने के लिए आवश्यक
सप्लाईलिमिटेड सप्लाईलिमिटेड सप्लाई पर सिर्फ एक ही उपलब्ध होती है
वैधताकुछ देशों में अवैधकुछ देशों में अवैध
पहचानडिजिटल मुद्राडिजिटल संपत्ति
लेन देनकेवल इलेक्ट्रॉनिक रूप से आदान-प्रदान किया जा सकता हैकेवल इलेक्ट्रॉनिक रूप से आदान-प्रदान किया जा सकता है
कहां रखेकेवल डिजिटल वॉलेट में संग्रहीतडेबिट/क्रेडिट कार्ड और नेट बैंकिंग का पैसा बैंक में संगृहीत
स्पर्शयोग्यताडिजिटल मुद्रा को नहीं छुआ जा सकता हैडेबिट/क्रेडिट कार्ड और नेट बैंकिंग का पैसा एटीएम द्वारा निकलवाये जाने के बाद स्पर्श किया जा सकता है।
नज़र रखनाहर एक डिजिटल कॉइन पर नजर राखी जा सकती हैडेबिट/क्रेडिट कार्ड और नेट बैंकिंग की हर एक ट्रांसक्शन पर नजर राखी जा सकती है।

क्रिप्टो करेंसी क्या है और डिजिटल एसेट के बीच अंतर जान लेने के बाद अब बात करते हैं क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड और नेट बैंकिंग की। आखिर ये कैसे भीं है क्रिप्टो मुद्रा से?

क्रिप्टो मुद्रा और कार्ड/नेट बैंकिंग के बीच अंतर

क्रिप्टो करेंसी और कार्ड/नेट बैंकिंग, दोनों में क्या अंतर है? दोनों कैसे एक दुसरे से अलग है जबकि दोनों ही डिजिटल पेमेंट का एक स्त्रोत हैं। शायद आप भी ये जानने के लिए बेचैन होंगे, तो आईये हमे आपको इसे बड़े ही साधारण शब्दों में विस्तार से समझाने का एक मौका दीजिय –

अंतरक्रिप्टो करेंसी कार्ड/नेट बैंकिंग
मतलबक्रिप्टो करेंसी पूर्ण रूप से एक वर्चुअल और डिजिटल करेंसी है जिसको बेचने पर आप अपने पैसे और वो भी पेपर नॉट और सिक्के के रूप में पा सकते है।डेबिट/क्रेडिट कार्ड भी वर्चुअल और डिजिटल लेन देन के लिए बने है लेकिन आप इनसे डायरेक्ट पैसे निकलवा सकते है। और वो भी पेपर नॉट और सिक्के के रूप में पा सकते है।
उदाहरणBitcoin, Litecoin, Shiba InuDebit card payment, credit card payment, net banking payment
जारीकर्तास्वतंत्र रूप से संचालित होता हैसरकार द्वारा संचालित होती है।
बिचोलिएलेन देन करने के लिए आवश्यकलेन देन करने के लिए आवश्यक
सप्लाईलिमिटेड सप्लाईलिमिटेड ट्रांसक्शन्स
वैधताकुछ देशों में अवैधसभी देशों में लगी पर सिमा के अन्तर्ग्रत
पहचानडिजिटल मुद्राडिजिटल लेन देन का माध्यम
लेन देनकेवल इलेक्ट्रॉनिक रूप से आदान-प्रदान किया जा सकता हैइलेक्ट्रॉनिक और फिजिकल रूप से आदान-प्रदान किया जा सकता है
कहां रखेकेवल डिजिटल वॉलेट में संग्रहीत ।डेबिट कार्ड/ क्रेडिट कार्ड कही पर भी रखे जा सकते है। लेकिन पैसा बैंक के पास संगृहीत
स्पर्शयोग्यताडिजिटल मुद्रा को नहीं छुआ जा सकता हैडेबिट कार्ड/ क्रेडिट कार्ड को छुआ जा सकता है लेकिन ट्रांसक्शन को नहीं।
नज़र रखनाहर एक डिजिटल कॉइन पर नजर राखी जा सकती हैहर एक ट्रांसक्शन पर नजर राखी जा सकती है

चलिए अब कुछ बोहोत ही प्रचलति प्रश्नो का उत्तर देते हैं।

क्रिप्टो करेंसी के प्रकार भी होते हैं?

क्रिप्टो करेंसी के कुछ प्रकार भी होते हैं जैसे की

  • DeFi
  • NFT
  • utility tokens
  • store of value tokens जैसे bitcoin and litecoin,

दुनिया की सबसे पहली क्रिप्टो करेंसी ये है

बिटकॉइन दुनिया की पहली क्रिप्टोक्यूरेंसी है, बिटकॉइन को सातोशी नाकामोटो नमक एक शख्स ने 2008 और 2009 के बीच प्रस्तावित और विकसित किया था जो दुनिया की सबसे पहली ब्लॉकचैन पर आधारित डिजिटल करेंसी बनी।

बिटकॉइन इतना मेहंगा कैसे हो गया?

बिटकॉइन के महंगाई के पीछे का कारन है इसकी “कमी”। दरअसल बिटकॉइन अन्य मुद्राओ के मुकाबले केवल कुछ ही मात्रा में उपलब्ध है।

ऐसा माना जाता है की दुनिया में सिर्फ 18,925,137 बिटकॉइन ही मौजूद है जिनमे से 2,00,000 बिटकॉइन ही शेष बचे हैं।

ये ठीक सोने, और कीमती हीरे के जैसा है। जितनी ज्यादा कमी उतना ज्यादा दाम।

क्यूंकि दुनिया में सिर्फ कुछ गिने चुने लोगो के पास ही बिटकॉइन है इसलिए ये इतना रेयर है और मेहेंगा भी।

क्या क्रिप्टो करेंसी सुरक्षित है? कानूनी है?

क्रिप्टो करेंसी सुरक्षित है या नहीं ये बता पाना दुनिया भर की सरकारों के लिए भी मुश्किल है। फिर भी क्रिप्टो करेंसी को दुनिया की 56 देशो से मान्यता प्राप्त है

और कई बड़ी कंपनियां क्रिप्टो करेंसी को पेमेंट के रूप में भी स्वीकार करना शुरू कर दिया है। इन सब में शामिल है – Amazon, Microsoft और Tesla.

क्रिप्टो करेंसी को केसे खरीदे?

क्रिप्टो मुद्रा को खरीदने के लिए आप इंटरनेट पर मौजूद क्रिप्टो एक्सचेंज का सहारा ले सकते हैं। जैसे –

Coinbase, Voyager, WazirX, Uphold.

भारत में क्रिप्टो करेंसी मैं निवेश केसे करें?

भारत में क्रिप्टो करेंसी में निवेश करने के लिए आप कुछ भारतीय क्रिप्टो एक्सचेंज का इस्तेमाल कर सकते हैं। जैसे –

WazirX, CoinDCX, Coinswitch Kuber and Unocoin

सबसे सस्ती क्रिप्टो करेंसी कोनसी है?

Dogecoin, Shiba Inu और कुछ अन्य क्रिप्टो करेंसी काफी सस्ती हैं। लेकिन इस बात पर गौर करना आवश्यक है की हर एक क्रिप्टो मुद्रा अपने शुरवाती दिनों में सस्ती होती है।

जैसे 20 नवम्बर 2015 को बिटकॉइन का मूल्य 21,598.35 रूपए था लेकिन 12 नवम्बर 2021 को बिटकॉइन का मूल्य 47,87,818 रूपए पर पहुँच गया।

खरीदी हुई क्रिप्टोकरेंसी को केसे उपयोग कर सकते हैं?

खरीदी हुई क्रिप्टो करेंसी को अब आप उपयोग भी कर सकते है। क्यूंकि कुछ बड़ी कम्पनिया अब इस डिजिटल मुद्रा को पेमेंट के तोर पर ग्राहकों से सामान के बदले लेने लगी है।

इनमें शामिल है -Amazon, Microsoft, Star Bucks और Tesla

क्या क्रिप्टोकरेंसी को बेच भी सकते हैं?

जी हाँ। आप क्रिप्टो मुद्रा को क्रिप्टो एक्सचेंज के माध्यम से बेच भी सकते है।

क्रिप्टो करेंसी का फायदे

क्रिप्टो करेंसी एक डेंटरलिज़्ड करेंसी है जिसे अगर आप सेव भी रखते है तो ये आपको बढ़िया रिटर्न भविष्य में देती है।

क्रिप्टो करेंसी के नुक्सान

क्रिप्टो करेंसी को अभी पूर्ण रूप से सुरक्षित नहीं मन गया है। कुछ देश अभी भी क्रिप्टो करेंसी को नहीं अपनाते जैसे अल्जीरिया, बांग्लादेश, चीन, मिस्र, इराक, मोरक्को, नेपाल, कतर और ट्यूनीशिया। इन सभी देशो में फ़िलहाल क्रिप्टो करेंसी इस्तेमाल नहीं की जाती।

निष्कर्ष

यदि आपको क्रिप्टो करेंसी के ऊपर ये लेख थोड़ा भी पसंद आया हो तो कमेंट और शेयर ज़रूर करना!

Sahil Dhimaan
Sahil Dhimaan

Hi Friend!!! Nice to meet you here. I Sahil Dhiman (a passionate writer turned blogger, YouTuber, social media influencer, stock market and crypto investor) welcomes you all to my website - Gyanfry.com – the only place where Gyan taste better for you, me, your family and friends.

Articles: 26

Leave a Reply

Your email address will not be published.

What is Rs 34,6150000000 DHFL Bank Fraud Case? What is Metaverse? Simply Explained (With Visuals) अब आपके घर की छत्त बनाया करेगी बिजली सभी कारों से अनोखी टेस्ला कार? दीपिका पादुकोण की फिल्म गहराइयां पर फैंस नाराज ‘रोमांस न भाया’