लाभ हानि फार्मूला | लाभ और हानि के सूत्र

Share your love

लाभ और हानि फार्मूला व्यापार और निवेश के लिए महत्वपूर्ण हैं। लाभ हानि फार्मूला लागतों और आमदनी के अंतर का उपयोग करके कंपनी की लाभकारीता का मूल्यांकन करते हैं। 

जहाँ लाभ फार्मूला व्यापार में प्राप्त आमदनी और खर्च के बीच का अंतर दिखाता है। इसके विपरीत, हानि फार्मूला व्यापार में हुआ नुकसान दर्शाता है। ये फार्मूला व्यापारिक निर्णय लेने, निवेश करने और वित्तीय योजनाओं को समझने में महत्वपूर्ण हैं। 

ये फ़ॉर्मूले समझने में सरल हैं। जैसे की नीचे दिए गए सभी लाभ और हानि फ़ॉर्मूले हिंदी में दिए गए हैं जो आपको  बड़े ही सरलता से समझ में आएंगे:

लाभ हानि फार्मूला – Profit & Loss Formula in Hindi

बहुत ही सरल तरीके से लाभ हानि फार्मूला का सही उच्चारण इस प्रकार हैं! सारे फ़ॉर्मूले को समझाते हैं:

1. लाभ (Profit):

लाभ का मतलब है कि जब आप एक वस्तु या सेवा को उससे ज्यादा मूल्य पर बेचते हैं जिसमें आपके खरीद के मूल्य से अधिक है, तो वह अंतर लाभ के रूप में जाना जाता है।

लाभ = विक्रय मूल्य (SP) – क्रय मूल्य (CP)

2. हानि (Loss):

हानि का मतलब है कि जब आप एक वस्तु या सेवा को उससे कम मूल्य पर बेचते हैं जिसमें आपके खरीद के मूल्य से कम है, तो वह अंतर हानि के रूप में जाना जाता है।

हानि = क्रय मूल्य (CP) – विक्रय मूल्य (SP)

3. लाभ प्रतिशत (Profit Percentage):

लाभ प्रतिशत का पता करने के लिए, आप निम्नलिखित फ़ॉर्मूला उपयोग कर सकते हैं:

लाभ प्रतिशत = (लाभ × 100) / क्रय मूल्य (CP)

4. हानि प्रतिशत (Loss Percentage):

हानि प्रतिशत का पता करने के लिए, निम्नलिखित फ़ॉर्मूला का उपयोग कर सकते हैं:

हानि प्रतिशत = (हानि × 100) / क्रय मूल्य (CP)

5. क्रय मूल्य (CP) की जांच करने के लिए:

यदि आपको विक्रय मूल्य (SP) और लाभ प्रतिशत दिए गए हों, तो आप निम्नलिखित फ़ॉर्मूला का उपयोग कर सकते हैं:

क्रय मूल्य (CP) = (विक्रय मूल्य (SP) × 100) / (100 + लाभ प्रतिशत)

6. विक्रय मूल्य (SP) की जांच करने के लिए:

यदि आपको क्रय मूल्य (CP) और लाभ प्रतिशत दिए गए हों, तो आप निम्नलिखित फ़ॉर्मूला का उपयोग कर सकते हैं:

विक्रय मूल्य (SP) = क्रय मूल्य (CP) × (100 + लाभ प्रतिशत) / 100

उम्मीद है, यह समझने में आसान होगा!

लाभ हानि फ़ॉर्मूला उपयोग कैसे करें? लाभ और हानि के सूत्र

लाभ और हानि के फ़ॉर्मूले को उपयोग करने के लिए आपको निम्नलिखित प्रक्रिया का पालन करना होगा:

1. लाभ (Profit) और हानि (Loss) की गणना:

वस्तु का खरीद मूल्य (Cost Price, CP) और वस्तु का विक्रय मूल्य (Selling Price, SP) जानें।

लाभ या हानि की गणना के लिए निम्नलिखित फ़ॉर्मूले का उपयोग करें:

  – लाभ (Profit) = SP – CP

  – हानि (Loss) = CP – SP

2. लाभ प्रतिशत (Profit Percentage) और हानि प्रतिशत (Loss Percentage) की गणना:

लाभ या हानि के आंकड़े दिए गए हों, तो निम्नलिखित फ़ॉर्मूले का उपयोग करें:

  – लाभ प्रतिशत (Profit Percentage) = (लाभ × 100) / CP

  – हानि प्रतिशत (Loss Percentage) = (हानि × 100) / CP

3. खरीद मूल्य (Cost Price, CP) या विक्रय मूल्य (Selling Price, SP) का पता लगाना:

अगर लाभ प्रतिशत या हानि प्रतिशत के साथ क्रय मूल्य (CP) या विक्रय मूल्य (SP) दिए गए हों, तो निम्नलिखित फ़ॉर्मूले का उपयोग करे:

(यदि लाभ प्रतिशत दिया हो)

  – क्रय मूल्य (CP) = (SP × 100) / (100 + लाभ प्रतिशत) 

 (यदि हानि प्रतिशत दिया हो)

  – क्रय मूल्य (CP) = (SP × 100) / (100 + हानि प्रतिशत)  

(यदि लाभ प्रतिशत दिया हो)

  – विक्रय मूल्य (SP) = (CP × (100 + लाभ प्रतिशत)) / 100  

(यदि हानि प्रतिशत दिया हो)

  – विक्रय मूल्य (SP) = (CP × (100 – हानि प्रतिशत)) / 100  

4. अगर लाभ प्रतिशत और हानि प्रतिशत एक ही हों:

यदि लाभ प्रतिशत और हानि प्रतिशत एक जैसे हों (जैसे दोनों 10% हों), तो आप हानि प्रतिशत को लागू करके क्रय मूल्य और विक्रय मूल्य को निम्नलिखित फ़ॉर्मूले से भी निकाल सकते हैं:

– क्रय मूल्य (CP) = (उभयनिष्ठ लाभ या हानि प्रतिशत / 10)2% 

– विक्रय मूल्य (SP) = (100 + (उभयनिष्ठ लाभ या हानि प्रतिशत / 10)) × CP / 100

लाभ हानि फार्मूला उदाहरण 

चलिए एक उदाहरण के माध्यम से लाभ (Profit) को समझते हैं।

लाभ फार्मूला उदाहरण:

राम ने एक वस्तु को 500 रुपये में खरीदा और उसे 800 रुपये में बेच दिया। इसके अनुसार, उसने कितना लाभ कमाया है?

लाभ (Profit) = विक्रय मूल्य (SP) – क्रय मूल्य (CP)

लाभ (Profit) = 800 रुपये – 500 रुपये

लाभ (Profit) = 300 रुपये

इसलिए, राम ने उस वस्तु को 300 रुपये का लाभ कमाया है। जिसका मतलब हमे लाभ हानि फार्मूला से मालूम पड़ता है की वह वस्तु उसने उसके खरीद के मूल्य से 300 रुपये ज्यादा में बेची है।

हानि फार्मूला उदाहरण:

वस्तु की खरीद मूल्य (Cost Price, CP) है 500 रुपए और वस्तु की विक्रय मूल्य (Selling Price, SP) है 400 रुपए।

हानि (Loss) = क्रय मूल्य (CP) – विक्रय मूल्य (SP)

हानि (Loss) = 500 रुपए – 400 रुपए

हानि (Loss) = 100 रुपए

लाभ हानि फार्मूला के इस उदाहरण में, वस्तु को क्रय मूल्य पर 500 रुपए में खरीदा गया था और उसे विक्रय मूल्य पर 400 रुपए में बेच दिया गया। इससे 100 रुपए की हानि हुई, क्योंकि वस्तु को उसके मूल्य से 100 रुपए कम के बदले बेच दिया गया।

लाभ प्रतिशत उदाहरण

आपने एक वस्तु को 200 रुपये में खरीदा और उसे 300 रुपये में बेचा। इसके अनुसार आपका लाभ प्रतिशत क्या है?

लाभ (Profit) = विक्रय मूल्य (SP) – क्रय मूल्य (CP)

लाभ (Profit) = 300 – 200

लाभ (Profit) = 100 रुपये

अब हम लाभ प्रतिशत (Profit Percentage) के फ़ॉर्मूले का उपयोग करेंगे:

लाभ प्रतिशत (Profit Percentage) = (लाभ × 100) / क्रय मूल्य (CP)

लाभ प्रतिशत (Profit Percentage) = (100 × 100) / 200

लाभ प्रतिशत (Profit Percentage) = 5000 / 200

लाभ प्रतिशत (Profit Percentage) = 25%

इसलिए, आपका लाभ प्रतिशत 25% है। यहां आपने वस्तु को 200 रुपये में खरीदा और 300 रुपये में बेचा, जिससे आपको 100 रुपये का लाभ हुआ और इसका प्रतिशतीय भाग 25% है।

हानि प्रतिशत उदाहरण

वस्तु की खरीद मूल्य (Cost Price, CP) रूपए में ₹800 था। वस्तु का विक्रय मूल्य (Selling Price, SP) रूपए में ₹650 हो गया।

हमें हानि प्रतिशत निकालना है। तो उसके लिए निम्नलिखित फ़ॉर्मूला का उपयोग करें:

हानि प्रतिशत = (हानि × 100) / क्रय मूल्य (CP)

हानि (Loss) = क्रय मूल्य (CP) – विक्रय मूल्य (SP)

हानि (Loss) = ₹800 – ₹650

हानि (Loss) = ₹150

अब हम हानि प्रतिशत को निकालेंगे:

हानि प्रतिशत = (हानि × 100) / क्रय मूल्य (CP)

हानि प्रतिशत = (₹150 × 100) / ₹800

हानि प्रतिशत = 15000 / 800

हानि प्रतिशत = 18.75%

इसलिए, वस्तु की खरीद मूल्य ₹800 था और वस्तु का विक्रय मूल्य ₹650 हो गया, तो हानि प्रतिशत 18.75% है।

क्रय मूल्य (Cost Price, CP) उदाहरण:

विक्रय मूल्य (Selling Price, SP) है ₹500 और लाभ प्रतिशत (Profit Percentage) है 20%।

क्रय मूल्य (CP) = (विक्रय मूल्य (SP) × 100) / (100 + लाभ प्रतिशत)

क्रय मूल्य (CP) = (₹500 × 100) / (100 + 20)

क्रय मूल्य (CP) = (₹500 × 100) / 120

क्रय मूल्य (CP) = ₹50000 / 120

क्रय मूल्य (CP) = ₹416.67

इसलिए, विक्रय मूल्य ₹500 और लाभ प्रतिशत 20% के लिए क्रय मूल्य (Cost Price, CP) लगभग ₹416.67 होगा। ध्यान दें कि हम ने क्रय मूल्य को देखने के लिए लाभ हानि फार्मूला के लाभ प्रतिशत को प्रतीशत में बदला।

विक्रय मूल्य (Selling Price, SP) उदाहरण: 

आपने एक वस्तु को 1000 रुपए में खरीदा और उसे 20% लाभ प्रतिशत पर बेचा। तो इसका विक्रय मूल्य (SP) क्या होगा?

क्रय मूल्य (CP) = 1000 रुपए

लाभ प्रतिशत (Profit Percentage) = 20%

विक्रय मूल्य (SP) = क्रय मूल्य (CP) × (100 + लाभ प्रतिशत) / 100

विक्रय मूल्य (SP) = 1000 × (100 + 20) / 100

विक्रय मूल्य (SP) = 1000 × 120 / 100

विक्रय मूल्य (SP) = 120000 / 100

विक्रय मूल्य (SP) = 1200 रुपए

इस लाभ हानि फार्मूला से हमे पता चला, वस्तु का विक्रय मूल्य (SP) 1200 रुपए होगा। आपने उसे 1000 रुपए में खरीदा और 1200 रुपए में बेच दिया, इससे आपको 200 रुपए का लाभ हुआ।

Read More: अमन गुप्ता, पीएम मोदी फ्रांस में एक साथ पर क्यों ?

Read More: लाभ और हानि फार्मूला, सवाल, और उदाहरण

Read More: How to Start a Hotel Business Like OYO?

समाप्ति

हम लाभ हानि फार्मूला को समझ चुके हैं। यह फार्मूला लाभ और हानि को गणना करने के लिए उपयोग किया जाता है और वस्तु की खरीद मूल्य (Cost Price, CP) और विक्रय मूल्य (Selling Price, SP) के माध्यम से लाभ या हानि प्रतिशत भी प्राप्त किया जा सकता है। यह लाभ हानि फार्मूला सूत्र व्यापक रूप से व्यावसायिक परिस्थितियों में खरीददारों और विक्रेताओं के लिए महत्वपूर्ण है, क्योंकि इससे उन्हें अपने व्यवसाय में लाभ या हानि का पता चलता है।

लाभ और हानि फार्मूला और सूत्र के द्वारा, हम निम्नलिखित चीजों को जांच सकते हैं:

1. वस्तु की खरीद मूल्य (Cost Price, CP) और विक्रय मूल्य (Selling Price, SP) के बीच अंतर को लाभ या हानि के रूप में पहचान सकते हैं।

2. लाभ या हानि को निर्धारित करने के लिए उपयुक्त प्रतिशत समीकरण का उपयोग करके वस्तु के क्रय और विक्रय मूल्य का अनुमान लगा सकते हैं।

3. लाभ प्रतिशत और हानि प्रतिशत एक समान होने पर, विक्रय मूल्य और क्रय मूल्य को अनुमानित करने के लिए उभयनिष्ठ लाभ या हानि प्रतिशत का उपयोग कर सकते हैं।

लाभ हानि फार्मूला और सूत्र के जरिए हम वस्तु की खरीद और बिक्री के लिए सही मूल्य तय करने में मदद करते हैं। यह व्यापारी और उपभोक्ता दोनों के लिए महत्वपूर्ण है ताकि वे अपने कारोबार को सफलता के साथ चला सकें।

लाभ हानि फार्मूला के माध्यम से हम बिजनेस और व्यापार की आर्थिक स्थिति को समझ सकते हैं और सही निर्णय ले सकते हैं। 

यहां लाभ हानि फार्मूला, लाभ हानि सूत्र, लाभ और हानि फार्मूला, और लाभ हानि उदाहरण के माध्यम से हमने व्यापारिक दृष्टिकोन के विभिन्न पहलुओं को समझाया है। यह फार्मूला व्यापारियों को उनके कारोबार में बेहतर निर्णय लेने में सहायक साबित हो सकता है और उन्हें सफलता की राह दिखा सकता है।

Share your love
Sahil Dhimaan
Sahil Dhimaan

Hi, Sahil Dhimaan this side. I'm a passionate about entrepreneurship, startup, business, online marketing, innovative tech and online business growth.