ऑनलाइन मार्केटिंग के लाभ और हानि | फायदे,नुक्सान

Share your love

ऑनलाइन मार्केटिंग के लाभ और हानि एक गंभीरता का विषय हैं। ऐसा इसलिए क्यूंकि ऑनलाइन मार्केटिंग के लाभ कि और हमारा ज़्यादा ध्यान जाता है। ऐसे में हम ऑनलाइन मार्केटिंग के नुक्सान को अक्सर भूल जाते है। 

युवा पीढ़ी खासकर वो जिनकी आयु 18 से 34 वर्ष के बीच है, उनमें ऑनलाइन मार्केटिंग के प्रति एक विशेष आकर्षण है। विभिन्न अध्ययनों के अनुसार, इस आयु समूह के लोगों में ‘खोने का डर’ (FOMO) की भावना सबसे ज्यादा पाई जाती है। 

Strategy की एक रिपोर्ट के में पाया गया के 60% मिलेनियल्स (वह लोग जिनका जन्म 1981 और 1996 के बीच है) Fear Of Missing Out के कारण लगातार खरीदारी करते हैं। 

यह विचार उन्हें ऑनलाइन गतिविधियों में रहने के लिए प्रेरित करता है जिसकी वजह से ऑनलाइन मार्केटिंग के लाभ के साथ साथ कुछ नुक्सान भी देखे जा सकते हैं। 

Mashable की एक रिपोर्ट के अनुसार, लगभग 27% लोग सुबह उठते ही सोशल मीडिया पर आते हैं। 

यह दिखाता है कि लोगों के पास सोशल मीडिया पर समय बिताने की विशेष पसंद है, जो दर्शाता है कि व्यापारियों को ऑनलाइन मार्केटिंग के माध्यम से ग्राहकों तक पहुंचने का एक अच्छा मौका है। 

 यहाँ पर इस पर की ऑनलाइन मार्केटिंग के लाभ और हानि क्या है? बहस तो बनती ही है। तो चलिए आगे बढ़ते है और गहराई से समझते हैं। शुरवात करते हैं लाभ से।  

इस लेख में आप पढ़ेंगे

ऑनलाइन मार्केटिंग के लाभ (Benefits of Online Marketing in Hindi):

ऑनलाइन मार्केटिंग के लाभ सरलता से समझाने के लिए निम्नलिखित वाक्य और उदाहरण दिए जा सकते हैं:

1. ग्लोबल रीच (Global Reach):

यदि आप एक व्यवसायी हैं तो ऑनलाइन मार्केटिंग के जरिए आप वैश्विक स्तर पर अपने उत्पाद या सेवाओं की प्रचार-प्रसार कर सकते हैं। इससे आपके व्यापार को समृद्धि का एक नया अवसर मिलता है जिससे अधिक लोगों को आपकी ब्रांड की जानकारी होती है।

 उदाहरण: ऑनलाइन पर विश्वभर में उपलब्ध उत्पादों को खरीदने का मौका मिलता है, जैसे कि किसी भी देश में रहने वाले ग्राहक आपके उत्पादों को खरीद सकते हैं।

2. कॉस्ट-इफेक्टिवनेस (Cost-effectiveness):

ऑनलाइन मार्केटिंग सभी आयातन के व्यावसायिकों के लिए सस्ते और प्रभावी है। इसमें विज्ञापन को लागत कम होती है और आप अपने उत्पाद या सेवाओं की प्रचार-प्रसार को सबसे कम खर्च में कर सकते हैं।

उदाहरण: अगर आपके पास छोटा व्यवसाय है, तो ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म पर विज्ञापन करके आप अपने उत्पादों को बड़े संख्या में ग्राहकों तक पहुंच सकते हैं, जिससे आपके व्यवसाय का विकास होता है और आपके खर्चों को कम करता है।

3. टारगेटेड ऑडियंस (Targeted Audience):

ऑनलाइन मार्केटिंग आपको आपके उत्पाद या सेवाओं के लक्षित ग्राहकों को ध्यान में रखकर विज्ञापन और प्रमोशन करने की अनुमति देती है। इससे आपके विज्ञापन का प्रभाव अधिक होता है और ग्राहकों के बीच आपका विश्वास बढ़ता है।

उदाहरण: आप ऑनलाइन मार्केटिंग टूल का उपयोग करके आपके उत्पाद के लिए उचित वर्गीकरण कर सकते हैं, जैसे कि एक अपार्टमेंट लेने की रुचि रखने वाले लोगों को आपके नए प्रोजेक्ट की जानकारी मिलेगी।

4. 24/7 उपलब्धता (24/7 Availability):

ऑनलाइन मार्केटिंग के जरिए आपके व्यवसाय की उपलब्धता 24 घंटे, 7 दिन और 365 दिन होती है। ग्राहक जब भी चाहे, वे आपके उत्पाद या सेवाओं के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं और खरीद सकते हैं।

उदाहरण: आपके ई-कॉमर्स वेबसाइट पर उपलब्ध उत्पादों के बारे में ग्राहक रिव्यू और फीडबैक देखकर उन्हें विश्वास होता है कि वे कठिनाई के बिना ऑनलाइन खरीद सकते हैं।

5. डेटा एनालिटिक्स (Data Analytics):

ऑनलाइन मार्केटिंग आपको ग्राहकों के व्यवहार, पसंद, और रुचियों का विश्लेषण करने की अनुमति देती है। इससे आप अपनी विपणन स्ट्रैटेजी को समझ सकते हैं और उसे सफल बनाने के लिए समय-समय पर संशोधित कर सकते हैं।

उदाहरण: आप ऑनलाइन विज्ञापन कैंपेन्स के माध्यम से ग्राहकों की खरीद की आदतें और उनके विचारों को समझ सकते हैं, और उस जानकारी के आधार पर अपने उत्पादों या सेवाओं को और बेहतर बना सकते हैं।

और पढ़ें : – Zudio से सीखें रेडीमेड कपड़े का बिजनेस कैसे करते हैं – GyanFry

और पढ़ें : – 10000 में शुरू करें ये बिज़नेस कमाए लाखो महीने 

6. पर्सनलाइजेशन (Personalization):

ऑनलाइन मार्केटिंग आपको ग्राहकों को व्यक्तिगत रूप से लक्षित करने की अनुमति देती है, जिससे उन्हें अपने रुचियों और जरूरतों के अनुसार विज्ञापन और प्रमोशन मिलता है। इससे ग्राहक अनुभव में सुधार होता है और उन्हें आपके व्यवसाय के साथ जड़ी जमीन विश्वास मिलता है।

उदाहरण: ऑनलाइन विज्ञापन टूल्स के माध्यम से, आप ग्राहकों को उनके पसंदीदा उत्पादों के बारे में अधिक जानकारी प्रदान कर सकते हैं और उन्हें विशेष छूटों और सौभाग्यशाली ऑफ़र्स से लाभान्वित कर सकते हैं।

ऑनलाइन मार्केटिंग के लाभ और हानि
Image by Gyanfry.com (Topic: ऑनलाइन मार्केटिंग के लाभ और हानि)

7. बेहतर ग्राहक एंगेजमेंट (Improved Customer Engagement):

ऑनलाइन मार्केटिंग आपको सोशल मीडिया, ईमेल, और अन्य प्लेटफ़ॉर्म्स के माध्यम से ग्राहकों के साथ संवाद स्थापित करने में मदद करती है। इससे ग्राहक संबंध मजबूत होते हैं और वे अपनी सेवा या उत्पाद के लिए सकारात्मक अनुभव रखते हैं।

उदाहरण: सोशल मीडिया पर पोस्ट और स्टोरीज़ के माध्यम से, आप ग्राहकों के साथ संवाद स्थापित कर सकते हैं और उन्हें नए उत्पादों या सेवाओं के बारे में अपडेट रख सकते हैं, जो उनके रुचियों को पूरा करते हैं।

8. ब्रांड बिल्डिंग (Brand Building):

ऑनलाइन मार्केटिंग आपको अपने व्यवसाय को सक्रिय रूप से प्रमोट करने का अवसर प्रदान करती है, जिससे आपकी ब्रांड की पहचान विकसित होती है और ग्राहकों के बीच विश्वास और विशेष भावना बनी रहती है।

उदाहरण: आप विशेष ऑनलाइन विज्ञापन कैंपेन चला सकते हैं जो आपके व्यवसाय की उन विशेषताओं और अद्वितीयताओं को प्रमोट करते हैं जिनसे आप अपने विक्रेता भागीदारों के बारे में अधिक जानकारी प्रदान करते हैं।

9. मापने योग्य परिणाम (Measurable Results):

ऑनलाइन मार्केटिंग आपको अपनी विज्ञापन और प्रचार-प्रसार की प्रभावकारिता का मापन करने में मदद करती है। आप विभिन्न विज्ञापन टूल्स और एनालिटिक्स का उपयोग करके आपके मार्केटिंग परिणामों का निरीक्षण कर सकते हैं और उन्हें सुधारने के लिए कार्रवाई कर सकते हैं।

उदाहरण: आप आपके ऑनलाइन विज्ञापन कैंपेन्स के अनुमानित लाभ और कनवर्जन रेट को निरीक्षण कर सकते हैं, और जिन मार्केटिंग चरणों में सबसे अधिक सफलता मिली है, उन्हें अपनी विपणन स्ट्रैटेजी में शामिल कर सकते हैं।

10. बेहतर प्रतिस्पर्धा (Enhanced Competitiveness):

ऑनलाइन मार्केटिंग आपको अपने विभिन्न प्रतिस्पर्धाओं के साथ बेहतर तरीके से प्रतिस्पर्धा करने की अनुमति देती है। इससे आप अपने संवाद को उच्च वाक्यता और नवीनता से सजाकर अपने व्यवसाय को अलग बना सकते हैं।

उदाहरण: एक ई-कॉमर्स व्यवसाय के लिए ऑनलाइन मार्केटिंग से, वे अपने उत्पादों के बारे में अधिक लोगों तक पहुंच सकते हैं और अपने प्रतिस्पर्धियों के साथ नई और अलग तकनीकों का उपयोग करके आपसी प्रतिस्पर्धा में अग्रणी बन सकते हैं।

और पढ़ें : – आर्थिक लाभ हानि परिभाषा, फार्मूला, और उदाहरण

और पढ़ें : – लाभ हानि फार्मूला | लाभ और हानि के सूत्र – GyanFry

ऑनलाइन मार्केटिंग के नुक्सान (Disadvantages of Online Marketing in Hindi):

ऑनलाइन मार्केटिंग के नुक्सान, ऑनलाइन से होने वाली हानियां वैसे तो कम हैं लेकिन फिर भी कई प्रकार से पाई जाती है। जैसे कि –

1. टेक्निकल समस्याएं (Technical Issues):

ऑनलाइन मार्केटिंग के दौरान टेक्निकल समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं, जैसे कि वेबसाइट क्रैश, सर्वर डाउन या साइबर हमले। ये समस्याएं आपके व्यवसाय की प्रदर्शनशीलता को प्रभावित कर सकती हैं और ग्राहकों के साथ विश्वासघात कर सकती हैं।

उदाहरण: एक ई-कॉमर्स वेबसाइट पर ट्रैंसैक्शन करने की कोशिश करने पर वेबसाइट क्रैश हो जाती है, जिससे ग्राहक को आगे बढ़ने में परेशानी होती है और उन्हें खरीदारी का मौका चला जाता है।

2. सुरक्षा के खतरे (Security Risks):

ऑनलाइन मार्केटिंग में ग्राहकों के व्यक्तिगत और वित्तीय जानकारी की सुरक्षा एक महत्वपूर्ण चिंता है। यदि आपकी वेबसाइट या डिजिटल प्लेटफ़ॉर्म की सुरक्षा न हो, तो कारोबार की भरोसेमंदी खतरे में हो सकती है।

उदाहरण: अगर आपकी वेबसाइट पर साइबर अपराधियों द्वारा डेटा चोरी होती है, तो ग्राहकों को इससे नुकसान हो सकता है, और वे आपके साथ अधिक विश्वास करने से हिचकिचा सकते हैं।

3. इंटरनेट कनेक्टिविटी (Internet Connectivity):

ऑनलाइन मार्केटिंग के लिए ग्राहकों को इंटरनेट कनेक्टिविटी की आवश्यकता होती है। जिन क्षेत्रों में इंटरनेट कनेक्शन बहुत धीमा या अनिश्चित होता है, वहां आपके व्यवसाय को ग्राहकों के साथ संवाद करने में मुश्किलें हो सकती हैं।

उदाहरण: एक ऑनलाइन सेवा प्रदान करने वाली कंपनी के ग्राहक जब भी उसकी सेवा का उपयोग करने की कोशिश करते हैं, तो उनके इंटरनेट कनेक्शन की बढ़ती देरी के कारण सेवा में अवरुद्धि होती है।

और पढ़ें : – लाभ और हानि फार्मूला, सवाल, और उदाहरण

और पढ़ें : – निवेश का अर्थ | Investment Meaning in Hindi

4. व्यावसायिक संघर्ष (Business Competition):

ऑनलाइन मार्केटिंग में व्यावसायिक संघर्ष बढ़ जाता है, क्योंकि आपके समान उत्पाद या सेवाओं की कई अन्य कंपनियां भी ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म पर उपलब्ध होती हैं। इससे आपको उच्च रंग और अधिक उत्कृष्टता दिखाने की आवश्यकता होती है।

उदाहरण: एक ई-कॉमर्स पोर्टल पर आपके उत्पादों की कई अन्य विक्रेता भी उपलब्ध होते हैं, जो आपको अपने उत्पादों को बेहतर बनाने के लिए मुश्किल में डाल सकते हैं।

5. सोशल मीडिया में हानिकर सामग्री (Destructive Content on Social Media):

सोशल मीडिया पर गलत और विनाशकारी सामग्री का प्रसार होने से आपके व्यवसाय की छवि और ब्रांड को क्षति हो सकती है। अकसर लोग विनाशकारी पोस्टिंग्स, विज्ञापनों, या टिप्पणियों के बजाय नकारात्मक अनुभवों को साझा करते हैं।

उदाहरण: यदि किसी ग्राहक ने आपके उत्पाद या सेवा के साथ खुश नहीं रहा और उसने सोशल मीडिया पर यह टिप्पणी की कि “यह उत्पाद बिल्कुल वायु था”, तो ऐसी प्रतिक्रिया आपके ब्रांड की चर्चा में ग्राहकों के साथ विश्वासघात कर सकती है।

6. डेटा ब्रीच (Data Breach):

ऑनलाइन मार्केटिंग के लाभ और हानि में डेटा ब्रीच का खतरा रहता है, जिससे ग्राहकों की निजी जानकारी चोरी हो सकती है। अगर आपकी सुरक्षा में कमी है तो इससे आपके व्यवसाय को नुकसान हो सकता है और लोग आपके साथ संवाद करने से इनकार कर सकते हैं।

उदाहरण: एक ईमेल मार्केटिंग कैंपेन के दौरान यदि आपकी सर्वर सुरक्षित नहीं है और हैकर्स ने आपके ग्राहकों की ईमेल आईडी और पासवर्ड चोरी की हो, तो आपके व्यवसाय की सुरक्षा को खतरा हो सकता है।

7. ग्राहकों के अनिश्चितता (Customer Uncertainty):

ऑनलाइन मार्केटिंग में कई ग्राहक अनिश्चितता अनुभव करते हैं, क्योंकि उन्हें उत्पाद या सेवाओं की गुणवत्ता और वास्तविकता की जांच करने का मौका नहीं मिलता है। यह विश्वासघात और उनके विचारों का प्रभाव कर सकता है।

उदाहरण: यदि आप ऑनलाइन शॉपिंग पोर्टल पर एक उत्पाद को खरीदने का विचार कर रहे हैं, तो आपके पास उसे शार्टलिस्ट करने के लिए अपने हाथ में तस्वीरें और वास्तविक उत्पादों की मौजूदगी की अनुमति नहीं होती है, जिससे आप उस उत्पाद के संबंध में अनिश्चितता महसूस कर सकते हैं।

यहां दिए गए नुकसान ऑनलाइन मार्केटिंग में हो सकते हैं और ये सभी मार्केटिंग कैंपेन्स को प्रभावित कर सकते हैं। इसलिए, आपको ऑनलाइन मार्केटिंग में अपने कार्यक्रमों को ध्यान से नियोजित करना होगा और उच्च सुरक्षा मानकों का पालन करना होगा।

और पढ़ें : – गांव देहात में चलने वाला बिजनेस |12 महीने चलने वाला बिजनेस

और पढ़ें : – 12 महीने चलने वाला बिजनेस किसे कहते हैं और कैसे ढूढ़ते हैं?

ऑनलाइन मार्केटिंग के लाभ और हानि पर निष्कर्ष (Conclusion)

अगर सरल शब्दों में कहें ऑनलाइन मार्केटिंग के लाभ और हानि तो ऑनलाइन मार्केटिंग के माध्यम से आप अपने व्यवसाय को व्यापक रूप से दुनिया भर में प्रचारित कर सकते हैं, जिससे आपके उत्पादों और सेवाओं को लाखों लोगों तक पहुंच मिलती है। ऑनलाइन मार्केटिंग से आपको ग्राहकों के साथ सीधे संवाद करने का अवसर मिलता है, जिससे उन्हें अपने विक्रेता के साथ विश्वास और संप्रदायित्व का अनुभव होता है। व्यापार ग्राहकों के व्यवहार और पसंद के विश्लेषण कर सकते हैं, जिससे वे अपनी विपणन स्ट्रैटेजी को सुधार सकते हैं।

ऑनलाइन मार्केटिंग के नुकसान भी कई प्रकार के हैं। जैसे कि ऑनलाइन मार्केटिंग में टेक्निकल समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं, जो आपके व्यवसाय की प्रदर्शनशीलता को प्रभावित कर सकती हैं। व्यवसाय को डेटा चोरी का सामना करना पड़ सकता है, जिससे ग्राहकों का विश्वास टूट सकता है। इंटरनेट कनेक्टिविटी की कमी के कारण आपके ग्राहकों के साथ संवाद में अवरुद्धि हो सकती है। पर यह आपकी सोच पर भी निर्भर करता है की आप ऑनलाइन मार्केटिंग के लाभ और हानि में से किसे ज्यादा महत्त्व देते हैं।  

Share your love
Sahil Dhimaan
Sahil Dhimaan

Hi, Sahil Dhimaan this side. I'm a passionate about entrepreneurship, startup, business, online marketing, innovative tech and online business growth.